Ticker

6/recent/ticker-posts

SHAYARI DIL KO CHUNE Wali sad shayari love shayari pushpendra lpm

 DIL CHU LENE WALI SHAYARI                     
Pushpendra LPM

हमारे देश के कुछ महान शायरों द्वारा दिल जीतने वाली शायरियाँ लिखी गयी होती है जिन्हे जानने के लिए आप जानकारी को यहाँ से पढ़ सकते है तथा उसे फेसबुक, व्हाट्सएप्प पर अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते है |


मेरी हस्ती को मुहब्बत में फ़ेना कौन करेगा,
यह फ़र्ज़ ज़माने में अदा कौन करेगा,
मेरे हाथों की लकीरों को जरा देख नजूमी,
यह देख मेरे साथ वफ़ा कौन करेगा।

DIL CHU LENE WALI SHAYARI

ज़िंदगी में बार बार सहारा नही मिलता,
बार बार कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,
है जो पास उसे संभाल के रखना,
खो कर वो फिर कभी दुबारा नही मिलता

एक फूल का दर्द उसकी जुकि डाली समझते हे,
बाग की बात बाग का माली ही समझते हे,
ये किस तरह की रात बनाई हे दुनियावाले ने,
दिए का दिल जलता हे और लोग रोशनी समजते हे


उनके दीदार के लिए दिल तड़पता है
उनके इंतजार में दिल तरसता है
क्या कहें इस कम्बख्त दिल को
अपना हो कर किसी और के लिए धड़कता है

कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता,
हमारी हालत तुम्हारी होती,
जो रात हमने गुज़ारी तड़प कर,
वो रात तुमने गुज़ारी होती

उसे उड़ने का शौक था
और हमें उसके प्यार की कैद पसंद थी,
वो शौक पूरा करने उड़ गयी जो
आखिरी सांस तक साथ देने को रजामंद थी

मेरी साँसों को भी आज टूट जाने दे ए-खुदा
मेरे ख्वाबों की तरह, उसके वादों.
तेरे सिवा कौन समा सकता है मेरे दिल में
रुह तक गिरवी है मेरी, तेरी चाहत में.

एक बेवफा को अपना हमराज़ बना कर
अब पछता रहा हूँ अपना दिल गँवा कर
उस बेवफा ने ज़िन्दगी में आग लगा दी

तू तो हँस हँसकर जी रही है,
जुदा होकर भी….कैसे जी पाया होगा वो,
जिसने तेरे सिवा जिन्दगी कभी सोची ही नहीं

तन्हाई का उसने मंज़र नहीं देखा
अफ़सोस की मेरे दिल के अन्दर नहीं देखा
दिल टूटने का दर्द वो क्या जाने,
वो लम्हा उसने कभी जी कर नहीं देखा

चाँद ने की होगी सूरज से महोब्बत
इसलिए तो चाँद मैं दाग है
मुमकिन है चाँद से हुई होगी बेवफ़ाई
इसलिए तो सूरज मैं आग है

SHAYARI DIL KO CHUNE Wali


काश कोई करता प्यार हमसे इतना,
की मारने के बाद भी ख्वाबो में आया करते,
जब गिरते आँखों से हमारे आंसू ,
तो वो भी साथ में रोया करते

उन्होंने हमें आजमाकर देख लिया,
इक धोखा हमने भी खा कर देख लिया.
क्या हुआ हम हुए जो उदास,
उन्होंने तो अपना दिल बहला के देख लिया

कैसे मिलेंगे हमें चाहने वाले बताइये,
दुनिया खड़ी है राह में दीवार की तरह,
वो बेवफ़ाई करके भी शर्मिंदा ना हुए,
सजाएं मिली हमें गुनहगार की तरह

ढूंढ तो लेते अपने प्यार को हम, ;
शहर में भीड़ इतनी भी न थी..;
पर रोक दी तलाश हमने, ;
क्योंकि वो खोये नहीं थे, बदल गये थे

वो हर बार अगर रूप बदल कर न आया होता,
धोका मैने न उस शख्स से यूँ खाया होता,
रहता अगर याद कर तुझे लौट के आती ही नहीं,
ज़िन्दगी फिर मैने तुझे यु न गवाया होता


मेरी वफ़ा की कदर ना की
अपनी पसंद पे तो ऐतबार किया होता
सुना है वो उसकी भी ना हुई,
मुझे छोड दिया था उसे तो अपना लिया होता

खुद को औरों की तवज्जो का तमाशा न करो,
आइना देख लो अहबाब से पूछा न करो,
शेर अच्छे भी कहो, सच भी कहो, कम भी कहो,
दर्द की दौलत-ए-नायाब को रुसवा न करो

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।

उस शख्स से जब तक कोई बात नहीं होती,
दिन नहीं निकलता, रात नहीं होती,
न खफा हुवा करे वो, उसे कहना,
बिन उस के मुकम्मल मेरी ज़ात नहीं होती


यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम;
न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम;
जिसको जितना याद करते हैं;
उसे भी उतना याद आयें हम


जब जब तुम होगे तनहा, मैं साथ रहूँगी…
न रहूँ जहाँ मे फिर भी बन के अहसास रहूँगी

देखी है बेरुखी की… आज हम ने इन्तेहाँ,
हमपे नजर पड़ी तो वो महफ़िल से उठ गए

खुशी मेरी काँच के जैसी थी ऐ दोस्तों,
ना जाने कितनों को चुभ गयी

मेरे दिल में ज्यादा देर तक रुकता नहीं कोई..
लोग कहते हैं मेरे दिल में साया है तेरा.

बिखरे अरमान, भीगी पलकें और ये तन्हाई,
कहूँ कैसे कि मिला मोहब्बत में कुछ भी नहीं

चलो यूँ ही सही हम बेवफ़ा हैं,
मगर ये तो बताएँ आप क्या हैं.

हमे कहां मालुम था इश्क होता क्या है
बस एक तुम मिलें और जिन्दगी मुहब्बत बन गई


हमे कहां मालुम था इश्क होता क्या है
बस एक तुम मिलें और जिन्दगी मुहब्बत बन गई

पूरी दुनिया, नफरतों में जल रही है
फिर भी ना जाने कैसे ठंड लग रही है

मन्न्त ना माँगी होती मैंने मंज़िल पाने की
अगर पता होता साथ तेरा सफर तक ही है

Post a comment

0 Comments